सीमापुरी थाना पुलिस ने 100 से अधिक मोबाइल झपटने वाले झपटमार को किया गिरफ्तार


दिल्ली ब्यूरो। शाहदरा जिला पुलिस ने एक ऐसे झपटमार को पकड़ा है, जिसकी कई महीने से तलाश की जा रही थी। मई में जेल से बाहर आने पर उसने यमुनापार और इससे सटे बॉर्डर एरिया में मोबाइल फोन झपटने की 100 से अधिक वारदात कर डालीं। छीने गए मोबाइल फोन बेचकर हर महीने एक से डेढ़ लाख रुपये कमाता था। इससे न केवल पत्नी को महंगे-महंगे गिफ्ट देकर खुश रखता था, बल्कि दो गर्लफ्रेंड पर भी जमकर खर्च करता था। उसकी गर्लफ्रेंड में से एक सरकारी हॉस्पिटल की डॉक्टर और दूसरी नर्स है।
डीसीपी आर सत्यसुंदरम ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी का नाम आदिल मलिक है। उसे एसीपी सीमापुरी अक्षय कुमार और एसएचओ विनय यादव की टीम ने सीमापुरी इलाके के चिंतामणि चौक पर ट्रैप लगाकर पकड़ा। कई बार यह सीसीटीवी कैमरों में भी कैद हुआ था। इसके पास से दो फोन, एक कट्टा, कारतूस और चोरी की बाइक बरामद की गई। 27 साल का आदिल अपने परिवार के साथ जवाहर पार्क शालीमार गार्डन यूपी में रहता है। शादीशुदा आदिल एक बच्चे का पिता है। पुलिस ने बताया कि करीब दो महीने पहले इसने अपनी पत्नी को डेढ़ लाख रुपये का गोल्ड और नेकलेस भी खरीदकर दिया था। हर महीने वह फोन छीनने से एक से डेढ़ लाख रुपये कमा लेता था। इस पैसे को वह अपनी पत्नी और गर्लफ्रेंड महिला डॉक्टर और नर्स पर खर्च करता था। वह अकेले ही बाइक चलाते हुए केवल मोबाइल फोन छीनता था। वह भी पुरूषों के, महिलाओं के नहीं। लाल रंग की जिस बाइक से यह वारदात करता था, वह बाइक साहिबाबाद इलाके से चोरी की गई थी।
इसके सात भाई-बहनों में इसका एक भाई भी झपटमारी के मामले में पकड़ा जा चुका है। यह खुद 4 मई को जेल से बाहर आया था। इसके बाद इसने ताबड़तोड़ वारदाते कर डाली। यह दिन में ही वारदात करता था। फोन छीनने की वारदात लेफ्ट हैंड से करता था। छीने गए फोन को यह तीन से छह हजार रुपये प्रति फोन आगे बेचता था।
इसके मोबाइल फोन में बेचे गए फोन की फोटो और काफी चैट मिली है। मामले की तहकीकात की जा रही है और भी लोगों को पकड़ा जाएगा। पुलिस का दावा है कि इसकी गिरफ्तारी से झपटमारी के 22 मामले सुलझे हैं। 100 से अधिक वारदातों के बारे में जानकारी मिली है, जिनकी जांच शुरू कर दी गई है। अधिकतर वारदात शाहदरा जिले में और गाजियाबाद की हैं।