कमला नेहरू पार्क में गाजियाबाद, बुलंदशहर एवं हापुड़ के 2306 जोड़ों का मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह में विवाह संपन्न


गाजियाबाद ब्यूरो। समाज में सर्वधर्म-समभाव तथा सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा अक्टूबर, 2017 से “मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना“ संचालित है, जिसके अन्तर्गत विभिन्न समुदाय एवं धर्मों के रीति-रिवाजों के अनुसार वैवाहिक कार्यक्रम सम्पन्न कराया जाता है। योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि विवाह उत्सव में होने वाले अनावश्यक प्रदर्शन एवं अपव्यय को समाप्त किया जाना है एवं गरीब परिवार से जुड़े जोड़ों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है। इसी क्रम में आज जनपद गाजियाबाद के कमला नेहरू पार्क में जनपद गाजियाबाद, जनपद हापुड़ एवं जनपद बुलंदशहर के 2306 जोड़ो का सामूहिक विवाह समारोह संपन्न हुआ, जिसमें मा0 मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ जी द्वारा वर्चुअल संवाद के माध्यम से नव-विवाहित वर-वधुओ को आशीर्वाद देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की गई। आज के इस अवसर पर जनपद गाजियाबाद के 1239 जोड़ें, जनपद हापुड़ के 641 जोड़ें एवं जनपद बुलंदशहर के 426 जोड़ों का सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें 1488 हिंदू समुदाय, 812 मुस्लिम समुदाय एवं 06 बौद्ध समुदाय के नव-विवाहित वर-वधू की शादी संपन्न कराई गई। इस अवसर पर मा0 मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि गरीब कल्याण के प्रति केंद्र एवं प्रदेश सरकार के सहयोग से सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन गरीब तबके के लोगों के लिए किया जाता है, जिनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ नहीं है। उन्होंने कहा कि गांव की बेटी सबकी बेटी होती है वह न किसी जाति विशेष और न किसी मजहब की होती है अपितु वह तो इन सबसे ऊपर होती है, जिसके क्रम में आज का भव्य सामूहिक विवाह आयोजन एक सराहनीय प्रयास है। 


उन्होंने कहा कि इस संसार में कन्यादान सबसे बड़ा एवं पवित्र दान माना गया है। उन्होंने कहा कि जिसने गरीब की पीड़ा को सही से देखा है वही उनके सुख-दुख में उनके साथ रह पाएगा। इसलिए प्रदेश सरकार द्वारा यह बीड़ा उठाया गया और श्रमिकों को शासन की योजनाओं से जोड़ा गया ताकि अधिक से अधिक जरूरतमंद तक सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ श्रमिकों तक पहुंचाया जा सके। मा0 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के संकल्प से देश के अंदर स्वाधीनता का लाभ समाज में अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति को प्राप्त हुआ है। उन्होंने सामूहिक विवाह की महत्वता बताते हुए कहा कि इस तरह के समारोह में न कोई दहेज और न ही कोई अन्य आर्थिक लेन-देन की प्रक्रिया होती है। साथ ही समाज में व्याप्त रूढ़ीवादी परंपराओं पर सामूहिक विवाह अंकुश लगाने में कारगर सिद्ध हुआ है। उन्होंने भारत के मा0 प्रधानमंत्री जी के सहयोग से कोरोना काल में प्रदेश सरकार के द्वारा गरीबों के हितार्थ चलाई जा रही योजनाओं के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री गरीब अन्न कल्याण योजना के तहत समाज के गरीब तबके तक निशुल्क राशन पहुंचाने का कार्य प्रदेश सरकार के द्वारा किया गया साथ ही मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा नेशनल पोर्टेबिलिटी की सुविधा लागू की गई, जिसके तहत किसी भी जनपद या प्रदेश का नागरिक किसी अन्य जनपद या प्रदेश में राशन प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के समस्त नागरिकों को कोरोना वैश्विक महामारी से बचाने के उद्देश्य से निशुल्क वैक्सीनेशन कार्यक्रम प्रदेश भर में चलाए जा रहे हैं ताकि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को फैलने से रोका जा सके। उन्होंने बताया कि श्रम विभाग के माध्यम से 18 कमिश्नरियों में 18 अटल आवासीय विद्यालय बनाए जा रहे हैं जहां श्रमिकों के बच्चों को निशुल्क शिक्षा, खेल एवं उनकी स्किल डेवलपमेंट का कार्य किया जाएगा। इस अवसर पर मा0 मुख्यमंत्री जी ने गाजियाबाद में चल रहे लोकार्पण एवं शिलान्यास होने वाले कार्यों के संबंध में कहा कि जनप्रतिनिधियों एवं संबंधित विभागीय अधिकारियों के द्वारा आपसी सामंजस्य स्थापित करते हुए सभी कार्य को निर्धारित समय अवधि में गुणवत्ता परक रूप से पूर्ण कराने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। इस अवसर पर मा0 मंत्री श्रम, सेवायोजन एवं समन्वय स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा श्रम विभाग की ओर से श्रमिकों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं। सामूहिक विवाह समारोह केवल एक योजना है इसके अलावा श्रम विभाग की ऐसी कई योजनाएं हैं, जिनसे श्रमिकों को लाभान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि श्रम विभाग द्वारा इतने बड़े स्तर पर 2306 जोड़ों का सामूहिक विवाह इस बात का प्रतीक है कि सरकार जरूरतमंदों के लिए काम कर रही है। प्रदेश सरकार द्वारा हर वर्ग के व्यक्ति का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। आज श्रमिकों के बच्चों के लिए प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक के लिए स्कॉलरशिप की व्यवस्था सरकार द्वारा की गई है। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के समय में भी सरकार द्वारा श्रमिकों का ख्याल रखा गया साथ ही दोनों बार लॉक डाउन के समय श्रमिकों के खाते में समय से पैसे पहुंचाए गए। इतना ही नहीं श्रमिकों के इलाज के लिए भी केंद्र व प्रदेश सरकार के साथ-साथ विभाग की तरफ से उचित व्यवस्थाएं की गईं हैं। गंभीर बीमारियों में भी श्रमिकों की विभाग की तरफ से भरपूर सहायता की जा रही है। उन्होंने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मा0 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में देश व प्रदेश लगातार नित नई ऊंचाइयों को छू रहा है। आज प्रदेश में व्यापारी, आमजन सब निडर हैं। प्रदेश में लगातार औद्योगिक विकास हो रहे हैं। 

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री जनरल वी0के0 सिंह ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा संचालित मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है, जिसमें श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों की बेटियों का विवाह कराया जाता है। इसी कार्यक्रम के अंतर्गत आज गाजियाबाद में 2306 जोड़ों का विवाह संपन्न कराया गया। उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह योजना में जो भी खर्चा होता है वह श्रम विभाग द्वारा वहन किया गया है, जिसके अंतर्गत ₹65000 सीधे विवाहित जोड़ों के खाते में जाते हैं, जिससे कि वह अपनी जरूरत के हिसाब से विवाह के लिए सामान खरीद सकें। भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है जिसके तहत गरीब अभिभावकों की पुत्रियों की शादी सामूहिक विवाह समारोह में कराई जाती है। इस अवसर पर मंच का सफल संचालन बेसिक शिक्षा विभाग की पूनम शर्मा द्वारा किया गया। इस उपलक्ष पर मा0 राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल, मा0 मंत्री उ0 प्र0 सरकार अतुल गर्ग, मा0 महापौर आशा शर्मा, मा0 विधायक मोदीनगर मंजू सिवाच, मा0 विधायक साहिबाबाद सुनील शर्मा, मा0 विधायक लोनी नंद किशोर गुर्जर, अन्य जनप्रतिनिधि एवं जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल सहित प्रशासन एवं पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी गण उपस्थित रहे।