पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पूर्वी उत्तर प्रदेश को विकास की एक नई जीवन रेखा के रूप में करेगा स्थापित: योगी आदित्यनाथ


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन समारोह कार्यक्रम में कहा कि तीन वर्ष पहले पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के शिलान्यास का कार्यक्रम संपन्न हुआ था और पिछले 19 महीने से पूरी दुनिया कोरोना महामारी का सामना कर रही है। इस सबके बावजूद प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा द्वारा ही उद्घाटन संपन्न होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जिस विमान से पधारे हैं, जैसे ही विमान लैंड हुआ वैसे ही पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के साथ प्रधानमंत्री मोदी के आगमन के साथ सुल्तानपुर की धरती पर हुआ है। 
उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे केवल आवागमन का एक माध्यम नहीं बल्कि पूर्वी उत्तर प्रदेश जो आजादी के बाद से भौतिक विकास के उन मापदंडों में विफल साबित हुआ था, जिसकी आजादी के बाद लगातार उपेक्षा हुई। उस पूर्वी उत्तर प्रदेश को विकास की एक नई जीवनरेखा के रूप में स्थापित करने की दिशा में किए जाने वाले प्रयास का हिस्सा होगा। इस अवसर पर विगत 4.5 वर्ष के अंदर न केवल विकास की दिशा पर नए कार्य हुए हैं वो सभी के सामने हैं। एक तरफ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन हो रहा है तो वहीं दूसरी तरफ बुंदेलखंड को भी एक नए एक्सप्रेस-वे के साथ जोड़ने की कार्रवाई तेजी से बढ़ रही है। इसके अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश को पूर्वी उत्तर प्रदेश को जोड़ने के लिए गंगा एक्सप्रेस-वे का कार्य कुछ दिन में प्रारंभ होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में 9 एयरपोर्ट फंक्शनल हैं जबिक 11 एयरपोर्ट पर कार्य चल रहा है। यह नए भारत के नए उत्तर प्रदेश की तस्वीर है।