राजधानी दिल्ली में नई आबकारी नीति के तहत शराब की खुल गई दुकानें ,कई इलाकों में हो रहा विरोध


दिल्ली ब्यूरो। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नई आबकारी नीति के तहत शराब की दुकानें खुल गई हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आम आदमी पार्टी सरकार ने नई शराब नीति के तहत पूरी दिल्ली में 850 दुकानें खोलने का फैसला किया है। इससे पहले दिल्ली में कुल 600 ठेके थे जो मंगलवार को बंद हो गए। यानी, अब शराब प्रेमियों को शराब खरीदने में आसानी होगी क्योंकि पहले से 200 ज्यादा दुकानें खुल जाएंगी। हालांकि, उन्हें पहले से कुछ ज्यादा महंगी कीमतों पर शराब खरीदनी पड़ेगी। जानते हैं कि नई शराब नीति से और क्या-क्या बदल गया है।
1. 1 अक्टूबर को आई थी नई शराब नीति
1 अक्‍टूबर को नई आबकारी नीति के अमल में आते ही दिल्‍ली की 250 शराब की निजी दुकानें बंद हो गई थीं। इसके बाद करीब 600 सरकारी ठेकों पर लोड बढ़ गया। सप्‍लाई और डिमांड के बीच जैसे-जैसे गैप बढ़ा, ठेकों के बाहर कतारें उतनी ही लंबी होती चली गईं।
2. 16 नवंबर को बंद हो गए सभी ठेके
दिल्ली में पुराने सिस्टम से शराब बेचने की 40 फीसदी हिस्सेदारी के तहत 260 प्राइवेट स्टोर के लाइसेंस 30 सितंबर तक के लिए ही वैलिड थे जबकि 60 फीसदी हिस्सेदारी के साथ सरकारी दुकानों के लाइसेंस 16 नवंबर तक के लिए थे।
3. अब दुकान के अंदर जाएंगे ग्राहक
नई शराब नीति से सबसे बड़ा बदलाव शराब दुकानों पर देखने को मिलेगा। अब शराब दुकानों के आगे और सड़क पर भीड़ नहीं लगेगी क्योंकि ग्रिल लगी दुकानों से शराब बेचने पर प्रतिबंध लग गया है। अब कोई भी शराब दुकान कम-से-कम 500 वर्गफीट में होगी जिसमें ग्राहक अंदर जाकर शराब खरीद सकेंगे। इसे दुकानों के आगे या सड़क पर भीड़ नहीं लगेगी। इससे जहां सड़कों पर यातायात बाधित नहीं होगा, वहीं ग्राहक भी भीड़ में होने वाली धक्का-मुक्की से बचेंगे।
4. शराब दुकानों की टाइमिंग
दुकानों में सीसीटीवी कैमरे और एयर कंडीशनर लगे होंगे। साथ ही, पांच सुपर प्रीमियम स्टोर भी खोले जाएंगे जिनके लिए कम-से-कम 2,500 वर्ग फीट जगह की जरूरत होगी। दुकानें सुबह 10 बजे से रात 10 बजे तक खुली रहेंगी।
5. महंगी होगी दिल्ली
दिल्ली में शराब 9 से 10 प्रतिशत तक महंगी हो गई है। हालांकि, यह भी दावा किया जा रहा है कि कुछ दिनों बाद कीमतों में स्थिरता आएगी और एक वक्त ऐसा आएगा जब कीमतें घटेंगी और गुरुग्राम से भी सस्ती शराब दिल्ली में मिलेगी। ध्यान रहे कि गुरुग्राम हरियाणा में आता है, जहां शराब अन्य राज्यों के मुकाबले सस्ती मिलती हैं।
6. 32 जोन में बंटी दिल्ली
नई आबकारी नीति के तहत दिल्ली को 32 जोन में बांटा गया है। प्रत्येक जोन में शराब की 27 दुकानें खुलना तय हैं। इसके लिए तमाम दुकानों के लिए नीलामी प्रक्रिया कराई गई थी। नए प्लेयर्स का कहना है कि शुरू में कुछ दिन परेशानी आ सकती है, लेकिन कुछ दिनों में स्थिति बेहतर हो जाएगी। जानकारों का कहना है कि इसके लिए करीब एक महीने का वक्त लग सकता है।
7. ठेके बंद होने से परेशानी
दिल्‍ली में पिछले हफ्ते से ही शराब मिलने में परेशानी हो रही थी। स्‍टॉक की कमी के चलते कई ठेके बंद हो गए। हमारे सहयोगी टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने शराब के कई रेगुलर खरीदारों से बात की तो पता चला कि उन्‍हें पसंदीदा ब्रैंड्स नहीं मिल पा रहे थे। घटों लाइन में लगने के बाद किसी तरह शराब के दूसरे ब्रैंड से समझौता करना पड़ रहा था।
8. 206 ब्रैंड्स का रजिस्ट्रेशन
अब दिल्‍ली सरकार की तरफ से कहा जा रहा है कि वो शराब के शौकीनों को किसी प्रकार का दिक्‍कत न हो, इसका पूरा ख्याल रख रही है। नई शराब नीति के तहत अब तक 350 से ज्‍यादा स्‍टोर्स को लाइसेंस दिए गए हैं जो अब शराब की बिक्री कर सकते हैं। अब तक कुल 206 ब्रैंड्स रजिस्‍टर हो चुके हैं।
9. 10 होलसेलरों को लाइसेंस
लिकर ट्रेड से जुड़े जानकारों ने बताया कि अभी तक 10 होलसेलर को लाइसेंस दिया गया है। इनके पास मैन्युफैक्चर्स से शराब और बीयर इकट्ठा होगी जहां से रिटेलर को माल पहुंचाया जाएगा। बताया जाता है कि इन होलसेलर के पास अभी करीब 9 लाख लीटर शराब का स्टॉक पहुंच गया है। इसमें हर दिन बढ़ोतरी होगी।
10. एक्साइज डिपार्टमेंट का तोहफा
नई दुकानें खुलने से पहले एक्साइज डिपार्टमेंट ने भारत में बनी और विदेशी बीयर की कीमतें घटा दी हैं। ऐसे में उम्मीद है कि दिल्ली में शराब और बीयर की कीमतें अन्य पड़ोसी राज्यों की तुलना में कम हो जाएं। इसका फायदा भी सीधे तौर पर ग्राहकों को मिलेगा।
11. होटल इंडस्ट्री की चाहत
होटल इंडस्ट्री को उम्मीद है कि डिपार्टमेंट की ओर से जल्द ही रेस्टोरेंट, पबों और बारों में देर रात तीन बजे तक भी शराब परोसने वाले इजाजत मिल सकती है। नई आबकारी नीति में इसका भी प्रावधान है। इसके लिए डिपार्टमेंट की ओर से जल्द ही आदेश किए जा सकते हैं।
12. होटल-रेस्तरां के लिए नियम
नई नीति में खुली शराब बिक्री के लिए एल-17 लाइसेंस दिए जाएंगे जिसमें स्वतंत्र रेस्तरां एवं बार भी शामिल हैं। इन रेस्तरां एवं बार में सार्वजनिक प्रदर्शन से बचते हुए शराब परोसी जा सकती है। वहां पर संगीत एवं डीजे की व्यवस्था भी करने की छूट होगी।
13. होटल-रेस्तरां संघ मायूस
हालांकि, होटल एवं रेस्तरां संघ ने नई आबकारी नीति में रखे गए मिश्रित शुल्क ढांचे को लेकर नाखुशी जताई है। संघ की उत्तर भारतीय इकाई ने दिल्ली सरकार के इस शुल्क ढांचे की आलोचना करते हुए कहा कि सालाना एक करोड़ रुपये का शुल्क रखने से कई पांच-सितारा होटल खुद को चार-सितारा होटल के रूप में पंजीकृत कराना चाहेंगे। संगठन की महासचिव रेणु थपलियाल ने कहा कि होटल के लिए निर्धारित शुल्क ढांचा पूरी तरह गैर-आनुपातिक है। उन्होंने कहा कि पांच सितारा होटलों में शराब की बिक्री के लिए शुल्क एक करोड़ रुपया रखने से इस श्रेणी वाले होटलों की संख्या कम हो जाएगी।
14. कई इलाकों में विरोध
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने नई शराब नीति को वापस लेने की मंग की है। प्रदेश अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने आरोप लगाया है कि दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति के तहत अधिक राजस्व अर्जित करने वाले शराब के व्यापार को पूरी तरह से निजी हाथों में सौंपकर अब अरविंद केजरीवाल दिल्ली के प्रत्येक वॉर्ड में तीन-तीन शराब के ठेके खोलकर दिल्ली को नशे की राजधानी बनाने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शराब का व्यापार निजी हाथों में सौंपने के सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है जिसका खुलासा जल्द किया जाएगा।
15. कई इलाकों में हो रहा विरोध
नए-नए इलाकों में शराब दुकानें खुलने का विरोध भी हो रहा है। स्थानीय लोग यह कहकर विरोध कर रहे हैं कि इससे उनके इलाके में अपराध बढ़ेगा। वहीं, कुछ इलाकों में इसलिए विरोध हो रहा है क्योंकि शराब दुकान के लिए स्थान का चयन सही नहीं है। मसलन, कोई दुकान मंदिर तो कोई अस्पताल या स्कूल के पास खोली गई है।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर