कौन सा बड़ा राज खोलने जा रहे थे पत्रकार बुद्धि नाथ झा? पहले ही कर दी गयी हत्या


मधुबनी,(बिहार)। मधुबनी के पत्रकार  और आरटीआई  एक्टिविस्ट बुद्ध‍िनाथ झा की हत्‍या को लेकर माहौल गर्म है। बुद्ध‍िनाथ उर्फ अविनाश झा 9 नवंबर की रात से लापता थे,। 12 नवम्‍बर को उनकी अधजली लाश उड़न गांव में  सड़क के किनारे मिली थी। पुलिस अभी तक  हत्या को प्रेम प्रसंग का मामला बताने का प्रयास कर रही थी वहीं अविनाश के परिवारीजन कुछ नर्सिंग होम संचालकों पर शक जता रहे थे।   बतौर पत्रकार बुद्ध‍िनाथ झा ने फर्जी नर्सिंग होम और अस्पतालों के खिलाफ एक मुहिम चला रखी थी। 
बुद्धिनाथ ने पिछले दिनों एक फेसबुक पोस्‍ट में लिखा था- 'द गेम विल रीस्‍टार्ट ऑन द डेट 15/11/22' इस पोस्‍ट को  लोग उनके द्वारा मधुबनी में नर्सिंग होम और अस्‍पताल संचालकों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान से जोड़ कर देख रहे हैं। लोगों का कहना है कि बुद्ध‍िनाथ, नर्सिंग होम और अस्‍पताल संचालकों के खिलाफ आज कोई बड़ा खुलासा करने वाले थे। इसकी वजह से ही उनका अपहरण कर  हत्‍या कर दी गई है। फेसबुक पोस्‍ट की बात सामने आने के पुलिस ने मामले की नए स्तर से जांच शुरू कर दी है। मधुबनी के एसपी डॉ सत्यप्रकाश ने बताया कि अविनाश झा की पिछले तीन महीने से लगातार एक निजी अस्पताल की नर्स से बातचीत होने की बात सामने आई है साथ ही  अविनाश के परिजनों ने नर्सिंग होम मामले में  उसके द्वारा आरटीआई लगाने की जानकारी भी दी है। पुलिस प्रेम प्रसंग और नर्सिंग होम दोनों मामले की जांच कर रही है।
पत्रकार बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश की हत्या मामले में पुलिस ने नर्स समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है। बेनीपट्टी एसडीपीओ अरुण कुमार सिंह ने बताया कि हत्याकांड में अरेर के अतरौली की पूर्णकला देवी, बेनीपट्टी के रोशन कुमार साह, बिट्टू कुमार पंडित, दीपक कुमार पंडित, पवन कुमार पंडित व मनीष कुमार को गिरफ्तार किया गया है।  इससे पहले हत्याकांड के विरोध में रविवार को आक्रोशित लोगों ने बेनीपट्टी बाजार में जुलूस निकाल प्रदर्शन किया।