दिल्ली एनसीआर में जाली नोटों की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, सरगना समेत पांच गिरफ्तार


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली-एनसीआर में जाली नोटों की तस्करी करने वाले एक बड़े गिरोह के सरगना सहित पांच को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के पास से 100-100 के मूल्य के छह लाख रुपये के जाली नोट जब्त किए गए हैं। साथ ही नोट की छपाई में इस्तेमाल होने वाला अन्य सामान और मशीनें जब्त की गई हैं। पूछताछ में पता चला है कि आरोपित दिल्ली-एनसीआर में 50 रुपये के बदले 100 रुपये के नोट को बाजारों में खपा रहे थे। मामले में पुलिस ने आरोपित उत्तम नगर के रहने वाले हर्ष गिरधर, जहांगीरपुरी के करन सिंह और करमपुरा के सतीश ग्रोवर के अलावा पंजाब के अमृतसर के न्यू अमृतसर एलआइजी फ्लैट ब्लाक ए में रहने वाले हर्षदीप सिंह और गुरदासपुर जिले के तहसील बटाला क्षेत्र के मारी पंवान के विक्रम जीत सिंह को गिरफ्तार किया है। स्पेशल सेल के उपायुक्त राजीव रंजन सिंह ने बताया कि सूचना मिली थी कि आरोपित दस नवंबर को नारायणा फ्लाईओवर के पास जाली नोट लेकर आने वाले हैं।
सूचना के आधार पर इंस्पेक्टर पंकज कुमार, नागेंद्र सिंह, मनदीप सांगवान की टीम ने देर रात मौके पर पहुंची और वहां से तस्कर हर्ष गिरधर को एक लाख 80 हजार रुपये के जाली नोटों के साथ गिरफ्तार किया गया। आरोपित करन सिंह को यह रुपये आपूर्ति करने वाला था। करन ही दिल्ली-एनसआर में नोटों को खपाने का काम करता था। टीम ने उसे भी दबोच लिया। पूछताछ के बाद तीसरे आरोपित सतीश ग्रोवर को करमपुरा से दबोचा गया। पूछताछ में पता चला कि आरोपितों को पंजाब से विक्रम जीत सिंह नोटों का जखिरा देता था। टीम ने गुरदासपुर में छापामारी कर विक्रम को दबोच लिया। उससे पूछताछ में पता चला कि इस गिरोह का मुख्य सरगना हर्षदीप सिंह है। बाद में पुलिस ने उसे अमृतसर से दबोच लिया। पुलिस के मुताबिक हर्षदीप सिंह पेशे से इंजीनियर है, लेकिन नौकरी जाने के बाद जाली नोट छापने लगा था।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर