एटीएम बूथ पर लोगों की मदद के बहाने कार्ड बदलकर एटीएम से पैसे निकालने वाले अंतरराज्यीय गैंग का पुलिस ने किया पर्दाफाश


भदोही,(उत्तर प्रदेश)। एटीएम बूथ पर भोले भाले लोगों की मदद के बहाने कार्ड बदलकर उनके एटीएम से पैसे निकालने वाले एक अंतरराज्यीय एटीएम फ्राड गैंग का भदोही पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए सरगना सहित पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से साढ़े तीन लाख रुपये कैश और विभिन्न बैंकों के 93 एटीएम कार्ड मिले हैं। इनके पास से तीन असलहे और फ्राड किए गए रुपये से खरीदी गई चार बाइक और एक कार भी बरामद हुई है। पुलिस अधीक्षक डॉ. अनिल कुमार ने बताया कि 12 अक्टूबर को इस गैंग ने जिले की गोपीगंज थाना क्षेत्र के एक एटीएम बूथ पर महिला को मदद के बहाने शिकार बनाया और उनके एटीएम कार्ड बदलकर अलग-अलग स्थानों से 75 हजार रुपये निकाल लिए। महिला ने इसकी शिकायत पुलिस से की थी। शिकायत पर इस पूरे मामले की जांच साइबर क्राइम सेल, स्वाट टीम और गोपीगंज थाने की पुलिस कर रही थी। जांच के दौरान सभी पांच आरोपी विशाल गौतम, अमलेश कुमार, शंकर कुमार, हीरालाल गौतम और अजय भारती को मिर्जापुर तिराहे से गिरफ्तार किया गया। इनके पास से साढ़े तीन लाख रुपये, 93 एटीएम कार्ड, तीन असलहे और कारतूस, फ्राड के पैसे से खरीदी गई चार बाइक और एक चार पहिया वाहन मिला है।
आरोपी आजमगढ़ और जौनपुर जिले के रहने वाले हैं। इन लोगों ने गाजीपुर, जौनपुर, अलीगढ़, लखनऊ, प्रयागराज, दिल्ली, मुम्बई, मध्य प्रदेश सहित अन्य स्थानों पर एटीएम फ्राड की घटनाओं को अंजाम दिया है। आरोपी मदद के बहाने कार्ड धारकों को अपना शिकार बनाते थे। गैंग का आपराधिक इतिहास भी है और इस गैंग पर अलग-अलग जिलों में लगभग 20 मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस अधीक्षक ने गैंग का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रुपये से पुरस्कृत करने की घोषणा की है।