छत्तीसगढ़ के डीजीपी डीएम अवस्थी हटाए गए, कई मामलों में उनसे नाराज थे सीएम बघेल


रायपुर,(छत्तीसगढ़)। छत्तीसगढ़ के डीजीपी डीएम अवस्थी को पद से हटा दिया गया है। उनकी जगह अशोक जुनेजा नए डीजीपी बनाए गए हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गुरुवार को मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में यह फैसला लि्या गया है। सीएम भूपेश बघेल की समीक्षा बैठक के बाद बताया गया है कि वर्तमान डीजीपी डीएम अवस्थी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे थे। इसलिए राज्य की कानून व्यवस्था के हित में डीजीपी को बदलने का फैसला किया गया। सूत्रों के मुताबिक, चिटफंड के पीड़ितों के पैसा वापसी और एजेंटों के खिलाफ केस वापस लेना, राजनीतिक प्रकरणों की वापसी, निर्दोष आदिवासियों के खिलाफ दर्ज नक्सली मामलों की वापसी, पुलिस बल को साप्ताहिक अवकाश, ये कुछ ऐसे मुद्दे थे जिन पर वह काम नहीं कर पाए। इस वजह से डीएम अवस्थी को डीजीपी के पद से हटाया गया है। अवस्थी के खिलाफ हाल के दिनों में कई शिकायतें मिली थीं। समीक्षा बैठक में चिटफंड के पीड़ितों की पैसा वापसी और एजेंट्स के विरुद्ध केस वापसी के मामले में उनकी भूमिका से मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताई। इसके अलावा निर्दोष आदिवासियों के खिलाफ दर्ज नक्सली मामलों को वापस लेने, राजनीतिक प्रकरणों की वापसी और पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने संबंधी मामलों में भी उनकी भूमिका से मुख्यमंत्री खुश नहीं थे। जानकारी के मुताबिक समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री बघेल ने चिट फंड कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर जवाब मांगा। उन्होंने पूछा कि इन कंपनियों से जब्त की गई रकम कहां है और इनमें से कितनी राशि पीड़ितों को वापस की गई है। बघेल ने यह भी पूछा कि चिट फंड घोटाले के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए स्पेशल टीम बनी है या नहीं, लेकिन कोई संतोशजनक जवाब नहीं मिला। इसके बाद सरकार ने उन्हें पद से हटाने का फैसला लिया। दिसंबर, 2018 में भूपेश बघेल की सरकार ने शपथ लेने के दो दिन बाद डीएम अवस्थी को डीजीपी बनाया था। इससे पहले वे नक्सल अभियान के विशेष महानिदेशक थे। अवस्थी को एएन उपाध्याय की जगह इस पद पर नियुक्त किया गया था।