प्रयागराज कोर्ट ने खारिज की आनंद गिरी की जमानत याचिका, बाघंबरी मठ के महंत नरेंद्र गिरी की मौत मामले में हैं आरोपी


प्रयागराज,(उत्तर प्रदेश)। आखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरी की मौत मामले में जेल में निरुद्ध शिष्य आनंद गिरी की जमानत याचिका खारिज कर दी गई है। बुधवार को विशेष न्यायाधीश मृदुल कुमार मिश्रा की कोर्ट में आनंद गिरि की जमानत पर सुनवाई हुई थी और कोर्ट ने जमानत पर फैसला सुरक्षित कर लिया था।है। महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत मामले में आनंद गिरि को मुख्य आरोपी बनाया गया है। नरेंद्र गिरि की मौत के बाद हरिद्वार से आनंद गिरि को गिरफ्तार कर लिया गया था। करीब 40 दिनों से नैनी जेल में निरुद्ध है।
सीबीआई ने आनंद गिरी को पूछताछ के लिए रिमांड पर भी लिया। इस दौरान आनंद गिरि द्वारा अधिवक्ता जमानत अर्जी दाखिल कर चुके हैं। जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। जिसके बाद आनंद गिरि के अधिवक्ता विजय द्विवेदी ने पुनः जमानत अर्जी विशेष न्यायाधीश मृदुल कुमार मिश्रा की कोर्ट में दाखिल की थी।
मृदुल कुमार मिश्रा की कोर्ट ने बुधवार को सुनवाई के बाद फैसले के लिए गुरुवार की तारीख दी थी। आनंद गिरी के वकील को जमानत मिलने की उम्मीद थी लेकिन जज ने इसे खारिज कर दिया। आनंद गिरी के वकील ने कहा कि विशेष कोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद अब वह इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर करेंगे। फिलहाल वह कोर्ट के फैसले की कॉपी मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर