डी0एम0 राकेश कुमार सिंह ने गाजियाबाद के प्रदूषण को कम करने के उद्देश्य से दिए आवश्यक दिशा निर्देश


गाजियाबाद ब्यूरो। जनपद में वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण एवं प्रदूषण को जनपद में कम करने तथा एनजीटी एवं प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के मानको का अनुपालन सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने जिला पर्यावरण समिति की बैठक करते हुए सभी विभागीय अधिकारियों को कार्य योजना तैयार कर उसे अंतिम रूप प्रदान करते हुए कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जनपद गाजियाबाद औद्योगिक क्षेत्र होने तथा अधिक यातायात होने की दृष्टि से पर्यावरण को लेकर अत्यंत संवेदनशील जनपद है। सभी संबंधित विभागीय अधिकारी गण इस मंशा को दृष्टिगत रखते हुए अपने-अपने विभाग की कार्य योजना प्रदूषण कम करने के संबंध में विस्तृत रूप से तैयार कर उसे अंतिम रूप प्रदान करें ताकि पूरे जनपद में एनजीटी के नियमों एवं प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के नियमों का अक्षर से पालन सुनिश्चित हो सके। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड, सभी प्राधिकरण के अधिकारी गण का आह्वान करते हुए कहा कि सभी संबंधित अधिकारियों द्वारा टीम बनाकर जनपद में जहां-जहां पर निर्माण साइट संचालित हैं वहां-वहां पर प्रदूषण नियंत्रण करने के उद्देश्य से सभी मानकों का अनुपालन सुनिश्चित कराने की कार्यवाही की जाए। इसी प्रकार परिवहन विभाग एवं पुलिस यातायात विभाग के अधिकारियों के द्वारा संयुक्त रूप से जनपद के वायु प्रदूषण एवं ध्वनि प्रदूषण को कंट्रोल करने के उद्देश्य से निरंतर स्तर पर संयुक्त ड्राइव संचालित कर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाए ताकि जनपद का वायु प्रदूषण मानकों के अनुरूप कायम रहे। उन्होंने जनपद में आगजनी की घटनाओं पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से कृषि विभाग, प्राधिकरण एवं अन्य संबंधित विभागीय अधिकारियों को विशेष प्रयास करने के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए। सभी अधिकारियों के द्वारा ऐसे प्रयास सुनिश्चित किए जाएं कि जनपद में कहीं पर भी किसी किसान के द्वारा अपने खेतों में पराली जलाने की घटनाएं एवं नगर क्षेत्रों में कूड़ा आदि जलाने की घटनाएं घटित न होने पाए। उन्होंने कहा कि जनपद के डस्ट प्रदूषण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के समीर एप का जनपद में व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए ताकि जनपद के डस्ट प्रदूषण पर मानकों के अनुरूप अंकुश लगाया जा सके। बैठक में डस्ट कन्ट्रोल एवं समीर ऐप पर प्रदूषण संबंधित शिकायतों का विभिन्न कार्यदायी विभागों/संस्थाओं को नियमित रूप से अनुश्रवण एवं निस्तारण के लिए निर्देशित किया गया। जिलाधिकारी ने आवासीय क्षेत्रों में अवैध औद्योगिक इकाईयों को बन्द कराने के लिए सम्बन्धित उपजिलाधिकारियों की अध्यक्षता में गठित टीमों द्वारा त्वरित कार्यवाही प्रतिदिन कराने के निर्देश दिए। बैठक में प्रदूषणकारी इकाईयों के समीप आवासीय क्षेत्रों के विकसित होने के कारण ऐसे क्षेत्रों में नई आद्योगिक इकाईयों को पर्यावरणीय एवं स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से अनुमति न देने के लिए समिति में विचार-विर्मश हुआ एवं अग्रेत्तर कार्यवाही हेतु सक्षम स्तर को लिखने का निर्णय लिया गया। पर्यावरण के महत्वपूर्ण घटक वृक्षों से सम्बन्धित वर्ष 2022-23 में जनपद गाजियाबाद में होने वाले लगभग 11 लाख वृक्षारोपण के लक्ष्य के लिए जिलाधिकारी द्वारा समीक्षा की गयी जिसमें समस्त वृक्षारोपण सम्बन्धी विभागों को भूमि चिन्हांकरण के लिए एक सप्ताह में सूचना प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी प्रभाग गाजियाबाद को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये। जिलाधिकारी ने नगर निगम एवं जी0डी0ए0 को निर्देशित किया कि वह यह सुनिश्चित करें कि ऐसी भूमि जो अतिक्रमण मुक्त करायी गयी हो या अतिक्रमण होने की आंशका हो उन पर वृहद वृक्षारोपण करायें एवं अन्य विभाग भी राजकीय भूमि एक ही जगह पर चिन्हांकित कर जनपद की हरीतिमा बढाने पर ध्यान दें। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि तहसील स्तर पर समस्त उपजिलाधिकारी तहसील स्तर पर राजकीय भूमि जो है 'नदी' श्रेणी में दर्ज है और अतिक्रमित है, अतिक्रमण हटाकर राजकीय विभागों को वृक्षारोपण के लिए आवंटित कराने हेतु प्राथमिकता पर कार्यवाही कर वृक्षारोपण के लिए जनपद स्तर पर लैण्ड बैंक तैयार करें। बैठक में यह भी अवगत कराया गया कि 14वें व 15वें वित आयोग से प्राप्त धनराशि का वायु प्रदूषण को कम करने के प्रयासों के अन्तर्गत नगर निगम को आवंटित किया गया है। जिससे नगर निगम द्वारा औद्योगिक क्षेत्रों की सडकों की मरम्मत एवं सफाई का कार्य किया जायेगा। जिलाधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि जनपद में वायु की गुणवत्ता में सुधार के प्रयास समग्र एवं नवीन होने चाहिए ताकि जनपद में वायु प्रदूषण पर नियंत्रण कर पर्यावरण को स्वच्छ बनाया जा सके।आयोजित महत्वपूर्ण बैठक का संचालन डीएफओ दीक्षा भंडारी के द्वारा किया गया। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल, प्रभागीय वनाधिकारी/सदस्य संयोजक दीक्षा भण्डारी, क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी उत्सव शर्मा आदि अधिकारी गणों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर