दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने तोड़ा इंटरनैशनल ड्रग सिंडिकेट, मास्टरमाइंड को लंदन से दिल्ली लाई पुलिस


नई दिल्ली डेस्क। स्पेशल सेल को इंटरनैशनल ड्रग सिंडिकेट को तोड़ने में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। रैकेट के एक मास्टरमाइंड को प्रत्यर्पित कर लंदन से दिल्ली लाया गया है। रैकेट में शामिल सात सदस्यों को स्पेशल सेल की टीम पहले ही अरेस्ट कर चुकी है। आरोपी की पहचान 50 वर्षीय हरविंदर सिंह उर्फ बल्ली के तौर पर हुई है।
आरोपी का जन्म अफगानिस्तान में हुआ था। वह साल 1991 में परिवार के साथ दिल्ली आ गया था। पहली बार वह साल 1998 में इंग्लैंड गया। बाद में उसने साल 2008 में ब्रिटिश नागरिकता हासिल कर ली। इसके बाद वह ड्रग के धंधे में शामिल हो गया और वहीं से भारत में बैठे अपने सहयोगियों के साथ मिलकर ड्रग का धंधा कर रहा था।
स्पेशल सेल ने एनडीपीएस एक्ट के तहत साल 2018 में दर्ज एक केस में यह कार्रवाई की। साल में यह दूसरी बार है जब स्पेशल सेल ने ब्रिटेन के नागरिक को प्रत्यर्पित कराने में कामयाबी पाई है। इसके पहले मार्च 2021 में स्पेशल सेल किशन सिंह नाम के ब्रिटिश नागरिक को दिल्ली लेकर आई थी। डीसीपी (स्पेशल सेल) के मुताबिक, 18 मई 2018 को स्पेशल सेल ने ट्रक पार्किंग कार्गो कॉम्प्लेक्स टर्मिनल-2 आईजीआई एयरपोर्ट पर रेड की थी। यहां से पुलिस ने ड्रग्स की एक खेप बरामद की थी। इस मामले में आशीष शर्मा और आसिम अली को पुलिस ने ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया था।
मामले की जांच के दौरान इस रैकेट में शामिल आरोपी प्रवीन सैनी, राजेंद्र कुमार, पवन कुमार, ललित सुखीजा और अक्षत गुलिया को पकड़ा गया। जांच के दौरान पुलिस को पता चला इस ड्रग रैकेट का सरगना हरविंदर सिंह उर्फ बल्ली है। वह इंग्लैंड में बैठकर ड्रग रैकेट को ऑपरेट कर रहा है। दिल्ली पुलिस ने कोर्ट से आरोपी के खिलाफ गैर-जमानती वॉरंट जारी करवाया था।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर