रंगदारी के लिए सलाम होटल पर ताबड़तोड़ फायरिग करने वाले दो छात्र गिरफ्तार


गाजियाबाद ब्यूरो। लोनी में 20 लाख की रंगदारी न देने पर दिल्ली-सहारनपुर रोड स्थित सलाम होटल पर ताबड़तोड़ फायरिग करने के मामले में पुलिस ने दो छात्रों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। इनसे तमंचा, पिस्टल व घटना में प्रयुक्त स्कूटी मिली है। दोनों को एक लाख के इनामी हत्यारोपित पवन कल्लू ने लालच देकर अपने साथ शामिल किया था। दिल्ली-सहारनपुर रोड स्थित सलाम होटल पर 31 अक्टूबर की शाम को करीब 20 राउंड फायरिग की गई थी। गनीमत थी कि होटल कर्मी या खाना खा रहे लोग बाल-बाल बच गए थे। पुलिस ने स्कूटी, पिस्टल, सिम व डोंगल मुहैया कराने वाले चार आरोपित तीन दिसंबर को जेल भेजे थे। पवन अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। सरेंडर को पैसों के इंतजाम के लिए मांगी थी रंगदारी : एसपी ग्रामीण डा. ईरज राजा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित दादरी के लुहारली निवासी अंकुर और दिल्ली के पहाड़गंज निवासी अंश उर्फ हंसा हैं। अंकुर एलएलबी और अंश 12वीं के बाद आगे की पढ़ाई की तैयारी कर रहा है। घटना के दिन पवन व अंकुर गोलियां चला रहे थे और अंश स्कूटी से उनका इंतजार कर रहा था। पुलिस के मुताबिक लोनी के सिरौली गांव निवासी पवन कल्लू ने छह साल पहले बुलंदशहर में अपने मामा की हत्या की थी। गिरफ्तारी के बाद उसे जमानत मिली, जिसके बाद प्रापर्टी विवाद में उसने गांव के ही जैनेंद्र को 22 दिसंबर 2020 को गोलियों से भून दिया था। पांच माह बाद 21 मई 2021 को सुरेंद्र की भी गोली मारकर हत्या कर दी थी। तभी से वह फरार है और गाजियाबाद पुलिस ने उसके खिलाफ एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। दादरी से भी पवन के खिलाफ 25 हजार रुपये का इनाम घोषित है। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नहीं की। पुलिस सूत्रों की माने तो पवन को अंदेशा है कि वह पुलिस की मुठभेड़ में मारा जा सकता है। इसलिए वह आत्मसमर्पण करने की योजना बना रहा है। इसके लिए पैसों के इंतजाम करने को उसने रंगदारी मांगने की ठानी। रंगदारी से अमीर बनाने का दिखाया था सपना : दिनेश हत्याकांड में पुलिस ने अंकुर से पूछताछ की थी। पुलिस हिरासत से बाहर आने पर अंकुर दिल्ली में अपनी बहन के घर रह रहा था। गांव के ही मयंक ने दो साल पहले उसे पवन से मिलवाया था। तीन माह पूर्व पवन ने अंकुर से कहा कि अब्दुल सलाम का सलाम होटल खूब चलता है। इसे धमकाने पर अच्छे पैसे मिल जाएंगे। पवन ने 27 अक्टूबर को इंटरनेट के जरिए अब्दुल सलाम को काल कर 20 लाख रुपये मांगे थे। नहीं देने पर 31 अक्टूबर को वारदात कर दी। वारदात से पहले अंकुर, अंश व अन्य को पवन ने यह कहकर तैयार किया था कि इसमें सफल हो गए तो इसी तरह दिल्ली-एनसीआर के बड़े व्यापारियों से रंगदारी वसूलेंगे और सभी अमीर बन जाएंगे।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर