उत्तर प्रदेश केे कौशांबी में मानसिक रूप से विक्षिप्त शख्स को जानवर पकड़ने वाली गाड़ी में उठा ले गई पुलिस


कौशांबी,(उत्तर प्रदेश)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कुछ पुलिस वाले मानसिक रूप विक्षिप्त शख्स को जानवर पकड़ने वाली गाड़ी में जबरन डालते नजर आ रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि यह शख्स सड़क किनारे बैठ कर खाना खा रहा था, उसी दौरान पुलिस वाले आए और उसे जबरन गाड़ी में उठा ले गए। हालांकि ऐसे इसलिए किया गया, क्योंकि उस रूट से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का काफिला जाने वाला था। सुरक्षा में कोई चूक न हो इस वजह से पुलिसकर्मियों ने ऐसा कदम उठाया। लेकिन कुछ देर में ही इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिस पर लोगों के तरह-तरह के कमेंट आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह वीडियो उत्तरप्रदेश केे कौशांबी जिले का है। जहां पर रविवार को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आना था, जिसको लेकर चौराहे को सजाया गया था। इस दौरान पुलिसकर्मी सुरक्षा का जायजा ले रहे थे।तभी उन्होंने सड़क किनारे एक शख्स को बिना कपड़े कूड़े के ढेर में बैठे हुए और कुछ खाते देखा। पुलिस ने उस शख्स को हटने के लिए कहा, लेकिन वहां से नहीं हटा। पुलिस ने स्थानीय लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि वह तकरीबन एक साल से इसी चौराहे पर रहता है और साफ-सफाई करने वाले कर्मचारियोंं को सफाई नहीं करने देता है। वहीं इकट्ठा किए गए कूड़े पर जाकर बैठ जाता है और सफाईककर्मियों को पास जाने पर ईंट और पत्थरों से मारता है। पुलिसकर्मियों के बार-बार कहने पर जब वह नहींं हटा तो उसे जबरन जानवर भरने वाली गाड़ी में उठाकर डाल दिया, जिससे सीएम योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में किसी तरह की परेशानी न खड़ी हो।हालांकि इस घटना का आसपास मौजूद कुछ लोगों ने वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर डाल दिया। इस पर लोगों के तरह-तरह के कमेंट आ रहे हैं। कोई पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रहा है तो कोई प्रदेश की मौजूदा सरकार पर सवाल उठा रहा है।
पुलिस ने ट्विटर पर दी सफाई
इस वीडियो के सामने आने के बाद कौशांबी पुलिस ने कैमरे के सामने बोलने से मना कर दिया, लेकिन कौशांबी पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि मंझनपुर चौराहे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फ्लीट के रास्ते में एक विक्षिप्त व्यक्ति जनसभा में आने जाने वाले व्यक्तियों को पत्थर मार रहा था, उसकी इस हरकत को देखते हुए सीएम की सुरक्षा के मद्देनजर उसे तत्काल हटाया जाना आवश्यक था। अत: उसे वह मौजूद पुलिसकर्मियों ने हटाकर ठंड को देखते हुए कंबल व भोजन का प्रबंध कर सुरक्षित दूसरे स्थान पर पहुंचाया।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर