गाजियाबाद में नकली नोट छापने वाले गैंग का पर्दाफाश, 7 आरोपी गिरफ्तार


प्रेम प्रकाश त्रिपाठी,(गाजियाबाद)। क्राइम ब्रांच की स्वाट टीम और नारकोटिक्स सेल पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर कैला भट्टा में स्थित एक मकान में जाली नोट छापने वाले व जाली नोटों को मार्केट में भारी मात्रा में खपत करने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने इस गैंग में शामिल 7 अभियुक्तों को गिरफ्तार करते हुए उनके कब्जे से भारी मात्रा में जाली नोट के अलावा एक नोट छापने वाली मशीन और प्रिंटर के अलावा अन्य उपकरण भी बरामद किए हैं। पुलिस के मुताबिक इस गैंग का यह गोरखधंधा पिछले काफी समय से चल रहा था और हर बार यह पुलिस की गिरफ्त से बाहर रहता था लेकिन इस बार मुखबिर की सूचना पर इस गैंग का पर्दाफाश हो गया है।
इसका खुलासा करते करते हुए एएसपी आकाश पटेल ने बताया कि क्राइम ब्रांच की स्वाट टीम और नारकोटिक्स सेल की संयुक्त टीम ने थाना कवि नगर क्षेत्र से जाली जाली नोट छापने वाले और नकली नोटों को मार्केट में खपत करने वाले शातिर गैंग का खुलासा किया है।पुलिस ने गैंग के आलम उर्फ आशीष पुत्र जहीर,फुरकान अब्बासी पुत्र निसार,अमन पुत्र जयचंद,रहबर पुत्र अनवर पठान,आजाद पुत्र शहाबुद्दीन, मोहम्मद यूनुस पुत्र हनीफ ,सोनू उर्फ गंजा समेत कुल 7 शातिर अभियुक्तों को भी गिरफ्तार किया है।
जिनके कब्जे से 2000 के 132 नोट, 500 के 554 नोट, 200 के 540 और ₹100 के 106 नोट समेत कुल 6,59,600 कीमत के जाली नोट के अलावा अन्य उपकरण भी बरामद किए हैं।इस गैंग में शामिल यह लोग जाली नोट डिमांड के हिसाब से छापते थे और उनकी सप्लाई भी बाजार में किया करते थे।
उन्होंने बताया कि इस गैंग के मास्टरमाइंड अभियुक्त आजाद ने बताया कि उसने कुछ महीने पहले एक पेट्रोल पंप पर एक व्यक्ति से खुले नोट लिए थे। उन रुपयों में कुछ जाली नोट भी थे लेकिन फिर भी वह बाजार में चल गए तो उसने नकली नोट बनाने की योजना तैयार कर ली और उसने यूट्यूब और अन्य जगहों से जानकारी कर जाली नोट बनाने का काम सीख लिया। उसके बाद इस्लाम नगर कैला भट्टा गाजियाबाद स्थित यूनुस के मकान पर आजाद सोनू गंजा और यूनुस मिलकर इन जाली नोटों की छपाई व फिनिशिंग आदि का काम शुरू कर दिया।
इसके अलावा रहबर नाम के अभियुक्त ने बताया कि वह खुद और उसके साथी अमन और आलमपुर आशीष एक असली नोट के बदले में 3 जाली नोट देते थे। इन नोटों को मांग के अनुसार बाजार में सप्लाई करने का इनका काम होता था। एसपी ने बताया कि पूछताछ में जाली नोट के संबंध में अमन एवं आलम उर्फ आशीष से पूछताछ की गई तो दोनों ने ही बताया कि वह दोनों यह जाली नोट 20% के कमीशन पर आगे सप्लाई किया करते थे।इसके अलावा आजाद ,सोनू गंजा तथा यूनुस नकली नोट छापकर तैयार किया करते थे। पूछताछ में अभियुक्तों ने यह भी बताया कि कुछ ऐसे लोग भी हैं।जिनसे उन्होंने नकली नोट दिए जाने के नाम पर असली नोट भी ले रखे थे।लेकिन उन्हें बाद में डरा धमका कर भगा दिया करते थे।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर