कनॉट प्लेस में पटरी लगाना बंद हुआ तो की खुदकुशी?


नई दिल्ली। जहांगीरपुरी इलाके में एक शख्स ने संदिग्ध हालात में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक की पहचान जहांगीरपुरी निवासी 35 वर्षीय पुरुषोत्तम उर्फ प्रशांत के रूप में हुई है। वह पहले कनॉट प्लेस में पटरी पर आर्टिफिशियल जूलरी बेचने का काम करते थे। परिजनों का दावा है कि कोर्ट ऑर्डर के बाद कनॉट प्लेस में वेंडरों को काम करने की मनाही कर दी गई थी। धंधा चौपट होने से आहत होकर उन्होंने ऐसा कदम उठाया।
मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। पुलिस ने पोस्टमॉर्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंपा। पुलिस का दावा है कि मृतक के पास से कोई स्यूसाइड नोट नहीं मिला है, जिससे मौत की असली वजह का पता नहीं है। परिजनों से पूछताछ के आधार पर जांच की जा रही है।
पुलिस के मुताबिक, प्रशांत परिवार के साथ जहांगीरपुरी जी-ब्लॉक में रहते थे। परिवार में पत्नी 32 वर्षीय निशा, बुजुर्ग माता-पिता, भाई नरेश व अन्य सदस्य हैं। नरेश ने बताया कि सोमवार शाम जब प्रशांत चाय पीने के लिए नीचे नहीं आए तो परिवार का एक सदस्य ऊपर उन्हें देखने के लिए गया। लेकिन उनका कमरा अंदर से बंद था और अंधेरा था। काफी आवाज देने पर भी जब अंदर से कोई आवाज नहीं आई तो परिवार के सदस्यों ने किसी तरह गेट तोड़ दिया। अंदर कमरे में प्रशांत का शव चुन्नी के सहारे फंदे पर झूल रहा था। तुरंत मामले की सूचना पुलिस को दी गई। घटना के समय प्रशांत की पत्नी घर पर नहीं थीं। वह काम पर गई थीं।
नरेश का दावा है कि दोनों भाई कनॉट प्लेस के बी-ब्लॉक में आर्टिफिशियल जूलरी की पटरी लगाते थे। लेकिन पुलिस ने कोर्ट के आदेश का हवाला देकर उन्हें हटा दिया था। इसके चलते दोनों भाइयों का काम बंद हो गया था।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर