हाईकोर्ट में फिजिकल सुनवाई बंद होने पर अधिवक्ताओं में नाराजगी, मुख्य न्यायाधीश से मिले बार के पदाधिकारी


प्रयागराज ,(उत्तर प्रदेश )। इलाहाबाद हाईकोर्ट में सोमवार से केवल वर्चुअल सुनवाई होने पर अधिवक्ताओं ने नाराजगी जाहिर की। वह दिन भर हाईकोर्ट के गेट पर जमा रहे और फिजिकल सुनवाई की मांग करते रहे। इस दौरान दोपहर में बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल से मुलाकात की। वकीलों ने उनके समक्ष अपनी मांगों को रखा। लेकिन, हाईकोर्ट की प्रशासनिक कमेटी ने इसे मानने से इंकार कर दिया।
देर शाम हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने संयुक्त रूप से बैठक कर वकीलों की मांग दोहराई। हाईकोर्ट बार के अध्यक्ष राधाकांत ओझा ने फिजिकल सुनवाई को जरूरी बताया और कहा कि इस मसले पर प्रशासनिक कमेटी को अपने निर्णय पर पुनर्विचार करना चाहिए। 
वर्चुअल सुनवाई के आदेश पर वकीलों की नाराजगी को देखते हुए हाईकोर्ट के सभी प्रवेश द्वारों के बाहर बैरिकेडिंग कर भारी संख्या में फोर्स तैनात कर दी गई। वकीलों के भीतर प्रवेश करने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया। गेट नंबर तीन की ओर से जाने वाले रास्ते को पूरी तरह से बंद कर दिया गया। वकीलों को उधर जाने पर पाबंदी लगा दी गई। इस पर वकीलों ने नाराजगी जताई।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर