दिल्ली के सारे प्राइवेट ऑफिस बंद, वर्क फ्रॉम होम चलेगा


दिल्ली ब्यूरो। राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना और ओमीक्रोन के संक्रमण का खतरा देखते हुए पाबंदियां बढ़ाई जा रही हैं। दिल्ली सरकार ने अब छूट प्राप्त श्रेणी में आने वाले कार्यालयों को छोड़कर सभी प्राइवेट ऑफिसों को बंद रखने के निर्देश दिए हैं। इस बाबत मंगलवार को आदेश जारी हो गया। जो प्राइवेट ऑफिस अब तक 50 प्रतिशत कार्य क्षमता के साथ काम कर रहे थे, उनसे अब घर से काम करने की प्रक्रिया का पालन करने को कहा गया है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के आदेश के तहत शहर के रेस्तरां और बार बंद करने का भी निर्देश दिया गया है। बहरहाल, रेस्तरां को घर पर भोजन पहुंचाने की सुविधा देने की अनुमति है। इसके अलावा लोग रेस्तरां से पैक कराकर भोजन ले जा सकते हैं। शहर के सरकारी कार्यालय अभी तक 50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ काम कर रहे हैं।
कोरोना केस बढ़े तो राजधानी में लॉकडाउन की आशंका बढ़ने लगी। हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि वह संपूर्ण लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। यदि सभी लोग सार्वजनिक जगहों पर मास्क लगाकर रखेंगे, तो महामारी पर अंकुश लगेगा। प्रशासन को भी सख्त निर्देश हैं कि पब्लिक प्लेस में कोई भी बिना मास्क न घूमे। चालान काटे जा रहे हैं। दिल्ली में ऑड-ईवन फॉर्म्युले पर दुकानें खुल रही हैं। वीकेंड कर्फ्यू भी लग गया है। शादी-ब्याह जैसे प्रोग्राम में अधिकतम 20 लोगों को छूट दी गई है।
DDMA की बैठक में रेस्तरां और बार को बंद करने और केवल 'टेक अवे' सुविधा की अनुमति देने का निर्णय लिया गया है। हर ज़ोन में प्रतिदिन केवल एक साप्ताहिक बाजार के संचालन की अनुमति देने का निर्णय लिया गया है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों में अतिरिक्त कर्मचारी की व्यवस्था करने और 15-18 वर्ष के आयु वर्ग 
सोमवार को हुई बैठक में इस बात पर मंथन हुआ कि दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों को समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में भी लागू करना चाहिए। हालांकि, केजरीवाल सरकार दिल्ली मेट्रो में 50% कैपेसिटी करने के पक्ष में नहीं है। मंगलवार को गाइडलाइंस अपडेट की गई है।
दिल्ली सरकार के आंकड़ों पर गौर करें तो 3 जनवरी को वेंटिलेटर पर 7 मरीज थे लेकिन 9 जनवरी को 44 मरीज हो गए। यानी, 7 दिनों में 6 गुना वृद्धि है। ऑक्सीजन सपोर्ट पर 3 जनवरी को 124 मरीज थे लेकिन अब 440 हैं। इनमें उन मरीजों को जोड़ा गया है जो वेंटिलेटर पर हैं। एक्टिव केस में 6 गुना इजाफा हुआ है। एक हफ्ते पहले 10,986 एक्टिव केस थे लेकिन 9 जनवरी तक एक्टिव केस 60,733 पर पहुंच गए। रोजाना रिकवरी कम हो रही है और नए केस ज्यादा आ रहे हैं। दिल्ली में नए केस में भी 5 गुना की वृद्धि है। राष्ट्रीय राजधानी में रोजाना नए केस चार हजार से 22 हजार पर पहुंच गए हैं और अभी बढ़ने की ही आशंका है। अनुमान है कि इस महीने के अंत तक नए केस नीचे आना शुरू हो सकते हैं।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर