मुसीबत में स्वामी प्रसाद मौर्य, धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले में गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी


उत्तर प्रदेश। सरकार से मंत्रिपद का इस्तीफा देते ही उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या को मुसीबत ने गले लगा लिया है चुनावी तैयारी में जुटे मौर्या को अब धार्मिक भावनाओं को भड़काने के आरोप में एमपीएमलए कोर्ट ने वारंट जारी किया है एमपीएमलए कोर्ट के दंडाधिकारी योगेश यादव ने स्वामी प्रसाद मौर्य को आगामी 24 जनवरी को पेश होने का आदेश दिया है। 
आपको बता दें की पूर्व कैबिनेट मंत्री के ऊपर सात सालों से धार्मिक भावना भड़काने का मुकदमा चल रहा है। उन्होंने बहुजन समाज पार्टी में रहते देवी-देवताओं का पूजन न करने का विवादित बयान दिया था। जिसके बाद स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। 
बता दें स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा में रहते हुए देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। जिस पर सुल्तानपुर के एमपी एमएलए कोर्ट ने आदेश जारी किया है। 24 जनवरी को मामले में सुनवाई होगी। यह आदेश 2016 में हाईकोर्ट द्वारा जारी किया गया था तब उन्होंने इस पर स्टे ऑर्डर ले लिया था। स्वामी प्रसाद प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री थे। जहां से उन्होंने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया और 14 जनवरी को वह सपा में शामिल होंगे। स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ जारी हुआ वारंट कोई नया नहीं है। यह वारंट पहले से जारी था, लेकिन मौर्य ने हाईकोर्ट से 2016 के स्टे ले रखा था। इसी 6 जनवरी को MP- MLA कोर्ट ने मौर्य को 12 जनवरी को हाजिर होने को कहा था। दी गयी तारीख पर जब वे हाजिर नहीं हुए तो दुबारा से वारंट जारी किया गया है।  स्वामी प्रसाद मौर्य इन दिनों यूपी की राजनीति के सबसे ज्यादा चर्चित चेहरों में शुमार हैं।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर