नहीं टलेंगे उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव,यूपी में अचार संहिता की घोषणा के साथ ही रैलियों पर रोक लगा देगा चुनाव आयोग!


लखनऊ,(उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के चुनावों की घोषण जनवरी में होने की उम्मीद जताई जा रही है। विधानसभा चुनावों की तारीख घोषित होते ही प्रदेश में आचार संहिता भी लागू हो जाएगी। फिलहाल उत्तर प्रदेश में राजनीतिक दलों की रैलियां जोर-शोर से आयोजित की जा रही हैं। लेकिन यूपी में कोरोना संक्रमण भी बढ़ता ही जा रहा है। मंगलवार को यूपी में कोरोना के 992 नए संक्रमित सामने आए। इससे चुनावी माहौल के बीच राजनीतिक दलों को कई तरह की पाबंदियों का सामना करना पड़ेगा।
बता दें कि साल 2021 में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान पांच राज्यों के चुनाव हुए थे। इसमें पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी शामिल थे। चुनाव आयोग ने पिछले चुनावों के मुकाबले संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सख्त नियम बनाए थे। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी राजनीतिक दलों, प्रशासन और जनता को भी संभवत: ऐसे ही नियमों का पालन करना पड़ेगा।
बड़ी रैली और पदयात्रा पर लग सकती है रोक
उत्तरप्रेदश में तेजी से पांव पसार रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों की उम्मीदों पर पानी फिर सकता है। पिछले साल हुए पांच राज्यों के चुनाव के प्रोटोकॉल को देखा जाए तो संभावना है कि राजनीतिक दलों की बड़ी रैली और पदयात्रा पर रोक लग सकती है। बड़ी रैलियों के लिए सीमित संख्या का दायरा चुनाव आयोग द्वारा तय किया जा सकता है। पश्चिम बंगाल चुनाव में आयोग ने इसे 500 लोगों तक सीमित कर दिया था। वहीं रोड शो, पदयात्रा पर रोक लग सकती है। साथ ही घर-घर जाकर प्रचार करने के लिए भी उम्मीदवारों पर सख्त नियम लागू हो सकते हैं।
दिखाना पड़ेगा टीकाकरण का सर्टिफिकेट
चुनाव में वोटिंग और मतों की गिनती के दौरान उम्मीदवारों, पोलिंग एजेंट और वोटिंग सेंटर के अंदर आने वाले किसी भी अधिकृत व्यक्ति को कोरोनारोधी टीकाकरण का सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य किया जा सकता है। वहीं मतदान केंद्रों को सैनिटाइजेशन अनिवार्य किया जाएगा। साथ ही मतदाताओं के मास्क लगाकर आने पर सख्ती हो सकती है।
होगी नोडल ऑफिसर की नियुक्ति
राज्य चुनाव यूपी में कोरोना संक्रमण को देखते हुए नोडल स्वास्थ्य ऑफिसर की नियुक्ति करा सकता है। स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के तहत स्वास्थ्य के मामलों पर नजर रखने और आयोग की सही जानकारी देने की जिम्मेदारी इस पद पर बैठे अधिकारी की होगी।
नहीं टलेंगे उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील चंद्रा ने बीती 30 दिसंबर को साफ कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव नहीं टलेंगे। वह समय पर ही आयोजित होंगे। उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। बता दें कि सीईसी सुनील चंद्र उत्तर प्रदेश में चुनाव से जुड़ी तैयारियों का जायजा लेने आए थे, जिसके बाद उन्होंने लखनऊ में प्रेसवार्ता की थी।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर