तिहाड़ जेल में तलाशी के दौरान कैदी ने निगला मोबाइल, अस्‍पताल में भर्ती


  • हाई सिक्‍योरिटी वाली तिहाड़ जेल में चल रही थी कैदियों की तलाशी
  • एक कैदी कुछ छिपाता दिखा, जब तक वॉर्डर पहुंचता वो निगल गया
  • सबके सामने हुआ वाकया, कैदियों से लेकर जेल अधिकारी भी हैरान
  • पेट में उठा दर्द तो डीडीयू अस्‍पताल में कराया गया भर्ती, पेट में है सेल
नई दिल्‍ली। राजधानी की तिहाड़ जेल में अचानक तलाशी के दौरान एक कैदी के पास मोबाइल मिला। पकड़े जाने से बचने के लिए उसने मोबाइल निगल लिया। जेल अधिकारियों के अनुसार, कैदी को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। मोबाइल अभी कैदी के पेट में ही है। तिहाड़ के वरिष्‍ठ अधिकारी के मुताबिक, अभी यह पता नहीं चला है कि कैदी के पास मोबाइल फोन कहां से आया।
तिहाड़ के डीजी संदीप गोयल के अनुसार, घटना बुधवार (5 जनवरी) की है। जेल नंबर 1 के कैदी ने मोबाइल फोन निगल लिया। जब जेल का स्‍टाफ तलाशी लेने गया तो पता चला। फौरन कैदी को दीन दयाल उपाध्‍याय अस्‍पताल में एडमिट कराया गया। अधिकारियों के अनुसार, कैदी की हालत स्थिर है मगर मोबाइल अभी उसके पेट में ही है।
जेल कर्मचारी इस बात को लेकर जांच कर रहे थे कि कहीं कोई कैदी मोबाइल फोन तो इस्तेमाल नहीं कर रहा। तभी वॉर्डर ने देखा कि एक कैदी कुछ चीज छिपाने की कोशिश कर रहा है। वॉर्डर को शक हुआ कि कहीं इसके पास मोबाइल फोन ना हो। लेकिन जब तक वह उस कैदी के पास पहुंचकर उसके हाथ से मोबाइल फोन जब्त कर पाता, तब तक कैदी मोबाइल फोन को सामने ही निगल गया। इसे देख कर ना केवल अन्य कैदी बल्कि जेल कर्मचारी भी सन्न रह गए।
बताया जाता है कि यह फोन साइज में छोटा था। लेकिन फोन सटक ने के तुरंत बाद कैदी को परेशानी शुरू हो गई। पहले उसे जेल के हॉस्पिटल में ही डॉक्टर को दिखाया गया। लेकिन हालत बिगढ़ते देख कैदी को तुरंत डीडीयू अस्पताल भेजा गया। डीडीयू अस्पताल में पहले कैदी का एक्सरे किया गया। अब कैदी के पेट में पड़े मोबाइल फोन को बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है।
सूत्रों के मुताबिक, जब से तिहाड़ जेल में कॉल ब्लॉकिंग टॉवर लगे हैं। तब से कुछ कैदी बड़े साइज के स्मार्ट फोन इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। बल्कि इनकी जगह छोटे साइज के डॉट फोन इस्तेमाल करने की कोशिश की जा रही है। फिलहाल यह जांच का विषय है कि क्या इन बटनदार मोबाइल फोन के नेटवर्क जेल के अंदर मिल पा रहे हैं या नहीं। लेकिन सूत्रों का कहना है कि इतना जरूर है कि जेलों में कैदियों से समय-समय पर मोबाइल फोन बरामद हो रहे हैं। नए साल पर रोहिणी जेल में भी 50 मोबाइल फोन बरामद किए गए थे।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर